पंचायत चुनाव में संक्रमित 135 कर्मचारियों की मौत का मामला गूंजा, चुनाव आयोग ने रिपोर्ट तलब की

मुजफ्फरनगर। राज्य चुनाव आयोग ने पंचायत चुनाव में ड्यूटी करने वाले 135 से ज्यादा कर्मचारियों की मौत के मामले का संज्ञान लिया है। बता दे कि इन 135 कर्मचारियों में मुजफ्फरनगर के दो कर्मचारी भी शामिल है जो कि ड्यूटी करने के बाद कोरोना संक्रमित हुए और उनकी जान चली गई थी। राज्य निर्वाचन आयोग के विशेष कार्य अधिकारी एसके सिंह ने इस सम्बन्ध में सभी कलक्टरो को एक पत्र लिख है। जिसमें उन्होंने कहा है कि पूरे प्रदेश में 135 कर्मचारियो की मौत की बात कही गई है। इस मामले में आयोग ने रिपोर्ट तलब की है। किस-किस जनपद में कितने कर्मचारी ऐसे है। जिनकी मौत कोरोना की वजह से पंचायत चुनाव की ड्यूटी करने के बाद हुई हैं। इसी के साथ साफ हो गया कि चुनाव आयोग ने संज्ञान लिया है। मगर आयोग ने इस बात को लेकर भी चिंता जताई है कि सोशल मीडिया पर इस प्रकार की कुछ कटिंग वायरल हो रही है। जिसमें काफी कर्मचारियों के मरने की बात कही जा रही है। ऐसे जिलो के नाम भी बताये जा रहे है जहां अभी मतदान सम्पन्न भी नहीं हुआ। इस मामले में चुनाव आयोग के हस्तक्षेप के बाद साफ हो गया कि मृतक कर्मचारियों के परिजनों को इंसाफ मिल सकता हैं। क्योकि मुजफ्फरनगर में तो एक कर्मचारी की मौत के मामले में सैक्टर मजिस्ट्रेट की भूमिका संदिग्ध बताई गई है। यह कर्मचारी ग्रेन चैम्बर इंटर काॅलिज नई मंडी में बडे बाबू के पद पर तैनात था। पंचायत चुनाव में ड्यूटी के दौरान उसकी तबियत खराब हो गई थी। जिसके बाद उसने अपने सैक्टर मजिस्ट्रेट को अपनी तबियत खराब होने के बारे में बताया। लेकिन सैक्टर मजिस्ट्रेट ने यह कहकर ड्यूटी काटने से मना कर दिया था कि पैरासिटामोल खाओ और ड्यूटी करते रहो। 102 बुखार में भी पीठासीन अधिकारी अमृत वाल्मीकी ग्राम रथेडी में ड्यूटी करता रहा। जिसके बाद हालत खराब होने पर 22 अप्रैल तक वह जिन्दगी व मौत के बीच जूझता रहा। आक्सीजन लेवल गिरने की वजह से उसकी मौत हो गई थी। इसके अलावा बुढ़ाना के शफीपुर पट्टी में पीठासीन अधिकारी के पद पर चुनाव में कार्यरत रहे शिक्षक की भी मौत हो गई थी। कुल मिलाकर पूरे प्रदेश में मचे हाहाकार के चलते चुनाव आयोग ने सुध ली हैं।

‘‘ पंचायत चुनाव की मतगणना रोकने की मांग शिक्षक संगठनों द्वारा राज्य चुनाव आयोग से की गई है ताकि शिक्षको की जान बच सके’’। रईसुदीन राणा, प्रदेश उपाध्यक्ष उर्दू टीचर्स वैलफेयर एसो.।

TRUE STORY

खबर नही, बल्कि खबर के पीछे क्या रहा?

http://www.truestory.co.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

43 − = 42

error: Content is protected !!