कही UP में बर्ड फ्लू का वायरस न परोस दे हरियाणा से आने वाला चिकन

मुज़फ्फरनगर।पडौसी सूबे हरियाणा में बर्ड फ्लू के कई केस सामने आने के बाद अब वहां चिकन की सप्लाई बहुत कम हो गई है। ऐसे हालात में हरियाणा व पंजाब से मुर्गियां यूपी की ओर सप्लाई होनी शुरू हो गई। प्रतिदिन सौ से ज्यादा ट्रक यूपी में प्रवेश कर रहे हैं। सरसावा बार्डर, गौरीपुर, बिडौली व कैराना चैकपोस्ट के जरिये हरियाणा से यूपी में इनकी एन्ट्री हो रही है। माना जा रहा है कि वहां से यह मुर्गियां सिर्फ इसलिए लायी जा रही है कि वहां बर्ड फ्लू की आशंका के चलते अलर्ट जारी हो गया हैं। कुछ केस सामने भी आये है। ऐसे हालात में वहां के लोगों ने चिकन व अंडे को लेकर दूरी बनाने का प्रयास किया तो मुर्गी फार्म का व्यवसाय करने वाले कारोबारियों के लिए उत्तर प्रदेश से बेहतर कोई स्थान नहीं रहा। पिछले एक सप्ताह की बात की जाये तो यहां सैकडो ट्रक यूपी में प्रवेश हो चुके हैं। जिसको लेकर अभी कोई भी गाईड लाईन जारी नहीं की गई है। बॉर्डर पर तैनात पुलिस कर्मी इस मामले में आरोपो के घेरे में आ रहे हैं। इससे पहले कभी हरियाणा से यूपी की ओर चिकन की सप्लाई नहीं हुइ। लेकिन अब अचानक ये सप्लाई होने से लोग दहशत में हैं। हालांकि इसको लेकर अभी कोई जागरूकता भी नहीं है। चिकन व्यवसाय करने वाले स्थानीय कारोबारियों का कहना था कि मुजफ्फरनगर व शामली में बर्ड फ्लू का कोई केस न तो सामने आया है और न ही इस प्रकार की कोई सम्भावना लग रही है। लेकिन जिस तरह हरियाणा व पंजाब से सहारनपुर व शामली बॉर्डर के जरिये खुला माल आ रहा है। उससे लग रहा है कि यहां कहीं न कहीं गडबड हो सकती है। इसको लेकर स्थानीय चिकन व्यवसाईयों ने अपनी चिंता से अध्किरियों को भी अवगत कराया, लेकिन अफसर भी इस सप्लाई पर रोक लगाने के लिए तैयार नहीं है। इनका कहना था कि जब तक शासन से कोई गाईड लाईन नहीं आयेगी तब तक वे कुछ नहीं कर पायेगे। मुर्गी फार्म कारोबारी मौ. नफीस का कहना था कि हर रोज सहारनपुर व शामली बॉर्डर के जरिये सैकडो गाडियां मुर्गियों से भरी आ रही है। जिसकी जांच होनी चाहिए। मुर्गियों का सैम्पल लेकर देखा जाये कि कहीं इनमे बर्ड फ्लू का वायरस तो नहीं है। यदि ऐसा ही चलता रहा तो जनपद में भी कहीं न कहीं बर्ड फ्लू का वायरस सक्रिय हो सकता हैं।

x

COVID-19

World
Confirmed: 97,985,728Deaths: 2,101,806
WhatsApp chat