हरे भरे फलदार पेड़ो का सीना चाक कर रहे माफिया, सेंचुरी इलाके में साबित हो रही वन विभाग की नाकामी

(काज़ी अमजद अली)मुज़फ्फरनगर। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में प्रदूषण एक बडी समस्या बनी हुई है। दिन प्रतिदिन हवा में घुलता जहर चिन्ता का कारण बना हुआ है। पर्यावरण को बचाने के लिए प्रदूषण फैलाने वाली इकाईयों पर अक्सर कार्रवाई की जा रही है। जिनकी जद में ईंट भट्टा उद्योग है। वहीं वृक्षारोपण कर क्षेत्र में हरियाली को बढाने के लिए वृक्षारोपण कर लाखों पेड लगाने का दावा सरकार द्वारा किया गया किन्तु अधिकारियों की सांठगांठ के कारण लगातार हरे वृक्षों का कटान जारी है, जिससे पर्यावरण को बचाने का अभियान दिखावा मात्र साबित हो रहा है। वन्य जीव जन्तुओं के लिए सुरक्षित हस्तिनापुर अभ्यारण्य क्षेत्र में हरे भरे पेड़ो का कटान वन विभाग की लापरवाही की पोल खोल रहा है।

मुज़फ्फरनगर ज़िले के मोरना ब्लॉक क्षेत्र में हरे भरे वृक्षों का कटान बडे स्तर पर जारी है। प्रतिबंधित वृक्ष भी धडल्ले से काटे जा रहे हैं। कुछ वृक्षों को सूखा, बांझ व बीमार बताकर उनका परमिट बनवा लेने का दावा लकडी माफिया करते हैं। चन्द पेडों का परमिट होने का दावा कर हरा भरा बगीचा काट लिया जाता है। पिछले कुछ वर्षों में लाखों हरे भरे वृक्षों की बलि इसी सांठगांठ के कारण दी जा चुकी है। मोरना ब्लॉक क्षेत्र का शायद ही ऐसा कोई गांव हो, जहां आम व अन्य प्रतिबंधित वृक्षों का बगीचा लकडी माफियाओं द्वारा न काटा गया हो। फसलों का अवशेष को जलाने पर सैटेलाईट से धुआं देखने वाले विभाग अगर हरियाली का ग्राफ बनाएं तो तस्वीर साफ हो जाएगी। गत वर्षों में कितने हरे वृक्षों को कटान किया जा चुका है। वृक्षों के कटान के कारण जीव जन्तुओं पर इसका विपरीत असर पड रहा है। वन्य जीवों के लिए सुरक्षित किये गये अभ्यारण्य क्षेत्र में वन्य जीवों की संख्या में लगातार कमी आ रही है। प्राप्त जानकारी के अनुसार हरे वृक्षों के कटान की परमिशन देने वाले विभाग का कोई भी कर्मचारी न तो मौके पर आकर वृक्षों की जांच करता है। बीमार वृक्षों के इलाज के लिए मोरना ब्लॉक कार्यालय पर अधिकारी की व्यवस्था भी सरकार द्वारा की गयी है। चिकित्सक की व्यवस्था होने के बावजूद वृक्ष को बीमार बताकर उसका कटान करना बडे खेल की पोल खोलता है।

नमामि गंगे प्रदेश सह संयोजक डॉ. वीरपाल निर्वाल ने कहा- पर्यावरण को लेकर सरकार द्वारा गम्भीर प्रयास किये जा रहे हैं। हरे वृक्षों का कटान होना गम्भीर है। सम्बंधित अधिकारियों से बात कर इस ओर ध्यान दिलाया जायेगा। पर्यावरण के साथ खिलवाड को बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। भ्रष्ट कर्मचारियों व अधिकारियों की शिकायत पार्टी हाईकमान से की जाएगी।

x

COVID-19

World
Confirmed: 97,985,728Deaths: 2,101,806
WhatsApp chat