ताजा ख़बरें

हरियाणा पुलिस का बड़ा एक्शन: नूह हिंसा मामले में कांग्रेस MLA मामन खान अरेस्ट….

हिंसा के आरोपी से संपर्क में थे विधायक? हरियाणा SIT का दावा

हरियाणा के नूंह में 31 जुलाई को हुई हिंसा के मामले में हरियाणा पुलिस ने नूंह के फिरोजपुर झिरका से कांग्रेस विधायक मामन खान को राजस्थान से गिरफ्तार किया है। खान पर नूंह में हिंसा फैलाने का आरोप है।नूंह के नगीना पुलिस स्टेशन में सांप्रदायिक हिंसा फैलाने के मामले में मामन खान के खिलाफ FIR दर्ज की गई थी। इसी के सिलसिले में उनकी गिरफ्तारी की गई है। DSP सतीश कुमार ने इस गिरफ्तारी की पुष्टि की है।उन्होंने बताया कि खान को शुक्रवार को अदालत में पेश किया जाएगा।

तौफीक से हुई बात को सबूत माना…

अब तक की हुई पुलिस जांच में इस बात के पुख्ता सबूत मिले हैं कि मामन खान नूंह में हिंसा फैलाने वालों से जुड़े थे। जांच में सामने आया है कि मामन खान कथित तौर पर फोन पर मोहम्मद तौफीक नामक एक संदिग्ध के संपर्क में थे। हिंसा में शामिल होने के आरोप में तौफीक को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। पुलिस अब उससे पूछताछ कर रही है, जिसमें कुछ बड़े खुलासे हुए हैं।

पुलिस के पास पर्याप्त सबूत…

हरियाणा सरकार ने हाईकोर्ट में बताया है कि 31 जुलाई को नूंह में भड़की सांप्रदायिक हिंसा के संबंध में दर्ज FIR में से एक में कांग्रेस विधायक मामन खान को भी आरोपी बनाया गया है। पुलिस के पास मामन खान के खिलाफ पर्याप्त सबूत हैं। इनके आधार पर ही खान को आरोपी बनाया गया है।सरकार के वकील ने यह खुलासा तब किया जब पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट में खान की याचिका पर सुनवाई चल रही थी। मामन खान ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर अपने खिलाफ किसी किसी भी दंडात्मक कार्रवाई से राहत की मांग की थी।

SIT जांच में शामिल नहीं हुए मामन खान..

मामन खान को पूछताछ के लिए पहली बार 31 अगस्त को बुलाया गया था लेकिन खराब स्वास्थ्य का हवाला देकर वह पेश नहीं हुए थे। #SIT ने उन्हें 10 सितंबर को पेश होने के लिए दूसरी बार नोटिस दिया था लेकिन वह अधिकारियों को कोई सूचना दिए बिना फिर से पेश नहीं हुए।

मोनू मानेसर की क्या भूमिका?
…. ……
…..
वैसे इससे पहले इसी मामले में मोनू मानेसर को भी गिरफ्तार किया गया। मोनू पर आरोप था कि उसने सोशल मीडिया पर वीएचपी की यात्रा से पहले जो वीडियो पोस्ट किया, उसके जरिए दूसरे समुदाय के लोगों को भड़काया गया। जांच में ये भी सामने आया कि उस वीडियो की प्रतिक्रिया पर ही दूसरे समुदाय के लोगों ने हिंसा का रास्ता चुना और यात्रा के दौरान जमकर बवाल काटा गया। यहां ये समझना जरूरी है कि नूंह हिंसा में कुल 6 लोगों की मौत हो गई थी, इसमें पुलिसकर्मी भी शामिल रहे।

मामन खान का क्या था दावा?

फिरोजपुर झिरका के विधायक खान ने अदालत का रुख कर गिरफ्तारी से राहत का अनुरोध करते हुए दावा किया था कि उन्हें इस मामले में फंसाया जा रहा है जबकि हिंसा भड़कने के दिन वह नूंह में थे भी नहीं। विधायक के वकील ने सुनवाई के बाद कहा कि खान को अभी पता चला है कि उनका नाम प्राथमिकी में है।जस्टिस विकास बहल मामले की अगली सुनवाई 19 अक्टूबर को करेंगे।

नूंह में 31 जुलाई को विश्व हिंदू परिषद (VHP) के नेतृत्व वाली शोभायात्रा पर भीड़ ने हमला किया था. हिंसा में 6 लोगों की मौत हो गई थी. इसके बाद बदले में गुरुग्राम की एक मस्जिद पर हुए हमले में इमाम की मौत हो गई थी।

विधायक ने अनुरोध किया था कि नूंह में हिंसा से जुड़े सभी मामले एक विशेष जांच टीम (एसआईटी) को स्थानांतरित कर दिए जाने चाहिए।सरकारी वकील ने अदालत को बताया कि एक एसआईटी पहले ही गठित की जा चुकी है।

#Haryana #Violence #Congress
#NuhViolence #mewat #Mamankhan

TRUE STORY

TRUE STORY is a Newspaper, Website and web news channal brings the Latest News & Breaking News Headlines from India & around the World. Read Latest News Today on Sports, Business, Health & Fitness, Bollywood & Entertainment, Blogs & Opinions from leading columnists...

Related Articles

Back to top button