मुजफ्फरनगर के सटोरिये दून में हुए अरेस्ट

आईपीएल के मैचों पर ऑनलाइन सट्टा खिलाने का कर रहे थे कारोबार, एसओजी ने दो को दबोचा

Imran choudhry
देहरादून।आईपीएल मैच में सट्टा लगाने वाले सट्टा गिरोह के मुज़फ्फरनगर निवासी दो सदस्य नगदी, मोबाईलों, लैपटाप व अन्य सामान सहित दून की एसओजी ने गिरफ्तार कर सट्टे के गोरखधंदे का खुलासा किया। पकड़े गए आरोपियों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने जेल भेजा।
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. योगेंद्र सिंह रावत के आदेशानुसार राजधानी देहरादून में समस्त अपराधों की रोकथाम के लिए चलाये जा रहे अभियान में पुलिस अधीक्षक नगर सरिता डोबाल व क्षेत्राधिकारी नगर शेखर सुयाल के नेतृत्व में एसओजी प्रभारी ऐश्वर्य पाल ने अपनी टीम के सात मिलकर दून में आईपीएल मैच में सट्टा लगवाने वाले सट्टा गिरोह के विकास अरोड़ा पुत्र रमेश कुमार निवासी वर्मा पार्क गांधी कालोनी व विशाल बंसल पुत्र श्रवण कुमार निवासी सुभाष नगर गांधी कालोनी मुजफ्फरनगरको गिरफ्तार किया।पकड़े गए सट्टा किंग के कब्जे से पुलिस ने 43हजार तीन सौ रूपये नगद,एक एलईडी 43 इंच,नोकिया वाईफाई राटर,12 मोबाईल फोन अलग-अलग कम्पनी के,एक लैपटाप सहित अन्य सामान की पुलिस ने बरामदगी की। बताया गया है कि पकडे गए आरोपी आईपीएल मैच के हर सीजन में ऑनलाइन लोगों को सट्टा खिलाते थे। सट्टा की खाईबाड़ी करने वाले गिरोह के ये लोग जगह बदल-बदल कर ऑनलाइन सट्टे का काम करते थे। सट्टे का ज्यादातर काम व्दसपदम होता है ओर ग्राहको से वाई फाई के माध्यम से सम्पर्क होता है।लोगो को ज्यादा पैसा कमाने का लालच देकर उनका पैसा सट्टे में लगावाया जाता था।एसओजी टीम ने इन आरोपियों को दून के थाना डालनवाला इलाके से रंगे हाथों दबोचा है।
राजधानी को सुरक्षित अड्डा मान रहे थे सट्टा किंग
मुजफ्फरनगर छोड़कर उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में आईपीएल मैच पर सट्टे का कारोबार करने वाले सदस्य पिछले महीने से दून की गलियों में सट्टे के कारोबार को लेकर सक्रिय हो गए थे। दून की एसओजी ने सट्टे का की खाई बाड़ी करने वाले इस गिरोह की धरपकड़ के लिए अपना जाल बिछाया था। जिसके चलते बुधवार को डालनवाला थाना क्षेत्र से उस वक्त इस गिरोह के दो सदस्यों को धर दबोचा जब वे ऑनलाइन सट्टे की खाई बाड़ी कर रहे थे।दून को सुरक्षित मान का यूपी के मुजफ्फरनगर निवासी सट्टा किंग स्टार इस गोरखधंधे को यहा कर रहे थे। जबकि राजधानी देहरादून में पुलिस अपराधियों पर शिकंजा कसने के लिए हमेशा अलर्ट रहती है।वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने एसओजी टीम की पीठ थपथपाई।

TRUE STORY

खबर नही, बल्कि खबर के पीछे क्या रहा?

http://www.truestory.co.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

30 + = 33

error: Content is protected !!